Hindi
Tuesday 14th of July 2020
Articles
ارسال پرسش جدید

दुआए अहद

दुआए अहद
इमाम जाफर अल-सादिक़ (अ:स) से नकल हुआ है की जो शख्स चालीस रोज़ तक हर सुबह इस दुआए अहद तो पढ़े तो वोह इमाम (अ:त:फ) के मददगारों में से होगा और अगर वो इमाम (अ:स) के ज़हूर के पहले मर जाता है ...

दुआ ऐ सहर

दुआ ऐ सहर
ऐ गमो अन्दोह मे मेरी पनाहगाह    या मफज़ई इन्दा कुरबती    يَا مَفْزَعِي عِنْدَ كُرْبَتِيऐ मुश्किलो मे मेरी मदद करने वाले    या ग़ौसी इन्दा शिद्दती    وَ يَا غَوْثِي عِنْدَ ...

अपनी परेशानी लोगों से न कहो

अपनी परेशानी लोगों से न कहो
मुफ़ज़्ज़ल बिन क़ैस ज़िन्दगी की दुशवारी से दो चार थे और फ़क्र व तंगदस्ती कर्ज़ और ज़िन्दगी के अख़राजात से बहुत परेशान थ। एक दिन हज़रत इमाम जाफ़रे सादिक अलैहिस्सलाम की ...

ग़ैबत की क़िस्में

ग़ैबत की क़िस्में
प्रियः पाठकों ! हम यहाँ ग़ैबते सुग़रा और ग़ैबते क़ुबरा की कुछ विशेषताओं का उल्लेख कर रहे हैं।ग़ैबते सुग़रा (अल्पकालीन ग़ैबत की क़िस्में) सन् 260 हिजरी क़मरी में हज़रत इमाम ...

इमामे रज़ा अलैहिस्सलाम

इमामे रज़ा अलैहिस्सलाम
हज़रत इमाम रिज़ा अलैहिस्सलाम का जीवन परिचयहज़रत इमाम रिज़ा अलैहिस्सलाम का नाम अली व आपकी मुख्य उपाधि रिज़ा है।माता पिताहज़रत इमाम रिज़ा अलैहिस्सलाम के पिता हज़रत इमाम ...

जनाबे ज़ैद शहीद

जनाबे ज़ैद शहीद
इमाम सज्जाद (अ.स.) की औलाद में हज़रत इमाम मोहम्मद बाक़िर (अ.स.) के बाद सब से नुमाया हैसियत जनाबे ज़ैद शहीद की है।आप 80 हिजरी में पैदा हुये।121 हिजरी में हश्शाम बिन अब्दुल मलिक से तंग आ ...

हज़रत इमाम सज्जाद अलैहिस्सलाम का जीवन परिचय

हज़रत इमाम सज्जाद अलैहिस्सलाम का जीवन परिचय
नाम व अलक़ाब (उपाधियाँ)इमामे सज्जाद अलैहिस्सलाम का नाम अली व आपकी मुख्य उपाधि सज्जाद हैं।माता पिताआपके पिता हज़रत इमामे हुसैन अलैहिस्सलाम व आपकी माता हज़रते शहरबानो ...

इमाम अली की ख़ामोशी

इमाम अली की ख़ामोशी
आज हम इस विषय पर चर्चा करेंगे कि जब खि़लाफ़त इमाम अ़ली का हक़ था तो क्यु आपने पैग़म्बर के स्वर्गवास के बाद अपने हक़ को अबूबकर, उस्मान या उमर से लेने की कोशिश नहीं की?इस सवाल के ...

दुआए फरज 2

दुआए फरज 2
काफअमी अपनी किताब "बलादुल अमीन" में कहते हैं, "अगर कोई शख्स बिना वजह  क़ैदी या बंदी बना लिया गया है, अगर इस दुआ को पढेगा तो उसे तुरंत रिहाई मिलेगी! अगर कोई शख्स अपने आप को ...

अमीरुल मोमिनीन अ. स.

अमीरुल मोमिनीन अ. स.
नाम व उपाधियाँआपका नाम अली व आपके अलक़ाब अमीरुल मोमेनीन, हैदर, कर्रार, कुल्ले ईमान, सिद्दीक़,फ़ारूक़, अत्यादि हैं।माता पिताआपके पिता हज़रतअबुतालिब पुत्र हज़रत अब्दुल ...

इताअत

इताअत
تلك حدود الله فلا تعتدوها و من يتعد حدود الله فاولئك هم الظالمونयह अल्लाह की हुदूद हैं इनसे आगे न बढ़ो जो आल्लाह की हुदूद से आगे बढ़े वह सब ज़ालेमीन में से हैं।सूरः ए बक़रः आयत न. 230अगर हम यह ...

हज़रत फ़ातिमा सलामुल्लाह अलैहा की इबादत

हज़रत फ़ातिमा सलामुल्लाह अलैहा की इबादत
ज़रत फ़ातिमा सलामुल्लाह अलैहा रात्री के एक पूरे चरण मे इबादत मे लीन रहती थीं। वह खड़े होकर इतनी नमाज़ें पढ़ती थीं कि उनके पैरों पर सूजन आ जाती थी। सन् 110 हिजरी मे मृत्यु ...

हजरत अली (अ.स) का इन्साफ और उनके मशहूर फैसले|

हजरत अली (अ.स) का इन्साफ और उनके मशहूर फैसले|
रसूल(स.) के बाद धर्म के सर्वोच्च अधिकारी का पद अल्लाह ने अहलेबैत को ही दिया। इतिहास का कोई पन्ना अहलेबैत में से किसी को कोई ग़लत क़दम उठाते हुए नहीं दिखाता जो कि धर्म के ...

25 ज़ीक़ाद ईदे दहवुल अर्ज़

25 ज़ीक़ाद ईदे दहवुल अर्ज़
माहे ज़ीकाद की 25वी तारीख को ईदे दहवुल अर्ज़ के नाम से याद किया जाता है और इस की रात को फज़ीलत वाली रातो मे शुमार किया जाता है इस दिन खानाऐ काबा के नीचे पानी पर ज़मीन बिछाई गई ...

एकता मुसलमानों की प्रगति रेखा

एकता मुसलमानों की प्रगति रेखा
वास्तव में हम मुसलमानों को क्या हो गया है?। बहुत आश्चर्य की बात है कि हम सारे मुसलमान एक अल्लाह की इबादत करते हैं, एक पैग़म्बर को मानते हैं, एक ही किताब पर ईमान रखते हैं तथा ...

हज़रत इमाम तक़ी अलैहिस्सलाम का जीवन परिचय

हज़रत इमाम तक़ी अलैहिस्सलाम का जीवन परिचय
नाम व अलक़ब(उपाधियां)हज़रत इमाम तक़ी अलैहिस्सलाम का नाम मुहम्मद व आपकी मुख्य उपाधियाँ तक़ी व जवाद है।जन्म व जन्म स्थानहज़रत इमाम तक़ी अलैहिस्सलाम का जन्म सन् 195 हिजरी ...

नमाज़ के साथ, साथ कुछ काम ऐसे हैं जो इबादत में शुमार होते हैं"

नमाज़ के साथ, साथ कुछ काम ऐसे हैं जो इबादत में शुमार होते हैं"
मुख्तसर तौर पर उन कामों का ज़िक्र करता हूँ। जिन्हें इबादत के खूबसूरत नाम से याद किया गया है, और जिन पर अमल उसी तरह लाज़िम है जिस तरह कि नमाज़ का अदा करना।*झूठ, गीबत,शराब और ...

कस्बे रोज़ी

कस्बे रोज़ी
मतने हदीस अन अबी उमर क़ाला : क़ला रसूलुल्लाहि(स.):लैसा शैउन तुबाइदुकुम मिन्नारि इल्ला व क़द ज़करतुहु लकुम व ला शैउन युक़र्रिबुकुम मिनल जन्नति इल्ला व क़द दलल्तुकुम अलैहि ...

आमाले लैलतुल रग़ा'ऐब

आमाले लैलतुल रग़ा'ऐब
लैलतुल रग़ा'ऐब - रजब की पहली शबे जुमा (नौचंदी जुमारात) मोहम्मदे मुस्तफ़ा(स.अ) नें फ़रमाया कि :रजब की पहली शबे जुमा से ग़ाफ़्लि ना होना कि इसे फ़रिशते लैलतुल रग़ा'ऐब कहते हैं । ...

हज़रत अली अलैहिस्सलाम की शहादत

हज़रत अली अलैहिस्सलाम की शहादत
पैग़म्बरे इस्लाम सल्लल्लाहो अलैहे व आलेही वसल्लम ने कहा कि हे अली, जिब्राईल ने मुझे तुम्हारे बारे में एक एसी सूचना दी है जो मेरे नेत्रों के लिए प्रकाश और हृदय के लिए आनंद बन ...